सिद्धारमैया का जीवन परिचय Siddaramaiah biography in hindi

सिद्धारमैया का जीवन परिचय Siddaramaiah biography in hindi

सिद्दारमैया एक भारतीय राजनेता और वकील हैं जो कि 2013 से 2018 तक कर्नाटक के मुख्यमंत्री रहे। वह वर्तमान में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता है, इससे पहले वह बहुत सी जनता परिवार वाली दलों के सदस्य रह चुके हैं। जनता दल (सेकुलर) के सदस्य के तौर पर वे दो बार कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री भी रह चुके है। वह कांग्रेस में रहते कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री रहे जिन्होंने 2013 से पद संभाला था। सिद्धारमैया ने पेशे से एक वकील प्रोफेसर नानजुंडा स्वामी के समाजवादी युवजाना सभा में अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की। उन्होंने 1978 तक जूनियर वकील के रूप में काम किया। वह कर्नाटक विधानसभा में विभिन्न पदों पर रहें। वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का एक महत्वपूर्ण राजनीतिक नेता है। इससे पहले उन्होंने जेडीएस के लिए राजनेता के रूप में कार्य किया और दो मौकों पर राज्य के लिए उपमुख्यमंत्री बने। वह कुरुबा समुदाय के नेता हैं। एच डी देवेगौड़ा के साथ मतभेदों के बाद 2005-06 में सिद्धारमैया को जेडी (एस) के रूप में निष्कासित कर दिया गया था। इसके बाद भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल होने के बाद वर्तमान में वह समन्वय समिति के अध्यक्ष हैं जो कांग्रेस- जेडीएस गठबंधन सरकार का समन्वय करती है।

सिद्धरमैया का जन्म तिथि 12 अगस्त 1948 को मैसूर में हुआ। इनके पिता का नाम सिद्धाराम गौड़ा है तथा इनकी माता का नाम बोरामा गौड़ा है। इनकी पत्नी का नाम पार्वती सिद्धरमैया है। इनके दो बेटे है। सिद्धारमैया के माता-पिता चाहते थे कि वह डॉक्टर बन जाए लेकिन उन्होंने वकील बनने का फैसला किया। लेकिन वह गलती से राजनीति में आ गए। भूख मुक्त कर्नाटक देखना उनकी इच्छा है। इसी कारण से मुख्यमंत्री रहते उन्होंने इंदिरा कैंटीन बनवाई। 2018 में उन्होंने अपना 13 वां राज्य बजट प्रस्तुत किया एक रिकॉर्ड स्थापित किया। 2010 में सिद्धारमैया ने बैंगलुरु को रेड्डी ब्रदर्स के खिलाफ 320 किमी पद्ययत (बल्लेरी चालो) में बैलेरी की यात्रा की। कर्नाटक की राजनीति में यह प्रमुख घटना है। यह बल्लेरी चलो अवैध खनन और भ्रष्टाचार पर सत्तारूढ़ बीजेपी को टारगेट किया जा रहा है।

अपने राजनीतिक जीवन की सुरूआत में 1983 में सिद्धारमैया चामुंडेश्वरी निर्वाचन क्षेत्र से कर्नाटक विधानसभा के सदस्य के रूप में निर्वाचित हुए। उन्होंने भारतीय लोकदल के टिकट पर चुनाव लड़ा। 1985 सिद्धारमैया मध्य-अवधि के चुनाव लड़े और उसी निर्वाचन क्षेत्र से फिर से निर्वाचित हुए। इस दौरान वह पशुपालन और पशु चिकित्सा सेवाओं के मंत्री बने। 1994 में वह कर्नाटक विधानसभा के सदस्य के रूप में फिर चुने गए थे। इस बार उन्हें वित्त मंत्री नियुक्त किया गया था। 1996 वह पूर्व मुख्यमंत्री जे एच पटेल के शासनकाल में कर्नाटक राज्य के उपमुख्यमंत्री बने। 2005 जेडीएस से निष्कासित होने के बाद वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए। उन्होंने दिसंबर 2006 में आयोजित चामुंडेश्वरी उपचुनाव जीता। 2008 में वो वरुण निर्वाचन क्षेत्र से कर्नाटक विधानसभा के सदस्य के रूप में निर्वाचित हुए। 2013 में सिद्धारमैया ने कर्नाटक के 22 वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। उन्होंने इस पद पर 2018 तक सेवा की थी। वह राज्य के पहले मुख्यमंत्री थे जिन्होंने 1977 के बाद अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा किया था। 2018 उन्होंने फिर से वरुण निर्वाचन क्षेत्र से विधानसभा चुनाव जीता और एक विधायक बन गए। वर्तमान में वह समन्वय समिति के अध्यक्ष हैं जो कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार का समन्वय करते हैं।

All image source : google image

सिद्धारमैया का जीवन परिचय Siddaramaiah biography in hindi

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.