पलक मुच्छल का जीवन परिचय PALAK MUCHHAL BIOGRAPHY IN HINDI

पलक मुच्छल का जीवन परिचय PALAK MUCHHAL BIOGRAPHY IN HINDI

पलक मुच्‍छल एक भारतीय पार्श्व गायिका और समाजसेवी हैं। वे और उनके छोटे भाई पलाश मुच्छल भारत तथा विदेशो में सार्वजनिक मंच पर गाने गाकर ह्रदय पीड़ित छोटे बच्चो के इलाज के लिए चंदा इकट्ठा करते है। उन्होने मई 2013 तक ढाई करोड रुपयो का चंदा इकट्ठा कर 572 बच्चो की जान बचाने के लिये वित्तीय सहायता प्रदान की है। पलक के इस समाज सेवा में योगदान के लिये उनका नाम गिनीज़ बुक ऑफ रिकॉर्ड्स तथा लिम्का बुक ऑफ़ रिकार्ड्स में भी दर्ज है। भारत सरकार और विभिन्न सामाजिक संस्थाओं ने उन्हें कई पुरस्कारों से सम्मानित किया है। 2011 में पलक ने हिन्दी फिल्मों में पार्श्व गायिका के रूप में गाना शुरु किया। उनके खासकर एक था टाइगर और आशिकी 2 फिल्मों के गानों की काफी लोकप्रिय हुए।

पलक मुच्‍छल का जन्म 30 मार्च 1992 में मध्यप्रदेश के इंदौर में हुआ था। उनके पिता का नाम राजकुमार मुच्छल है जोकि एक संस्था में अकाउंटेंट हैं। उनकी माँ का नाम अमिता मुच्छल है। उनका एक छोटा भाई है जिनका नाम पलाश मुच्छल है। पलक को संगीत का शौक बचपन से ही था। उन्होंने महज चार वर्ष की उम्र में ही गाना शुरू कर दिया था। उन्होंने हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत की शिक्षा ग्रहण की है। इसके साथ ही वह 17 भाषाओं में पूर्ण रूप से पारंगत हैं।

पलक मुच्छल ने अपने हिंदी फ़िल्मी करियर की शुरुआत साल 2011 में फिल्म दमादम से की। उसके बाद उन्होंने ना जाने कबसे, एक था टाइगर, फ्रॉम सिडनी विथ लव,आशिकी 2 और बंगाली फिल्म रॉकी के लिए गाने गाये। परन्‍तु पलक को हिंदी सिनेमा में कामयाबी फिल्म एक था टाइगर और आशिकी 2 से मिली। पलक बचपन से समाजिक क्रियाकलाप में सक्रिय हैं। जब वह महज पांच साल की थीं, तभी से वह इससे जुड़ी हुई हैं। वह बचपन से ही गरीबों की मदद करती चली आ रही हैं। साल 1999 में जब कारगिल की लड़ाई छिड़ी थी, तब उन्होंने शहीदों के परिवारों के लिए दुकानों और गली के नुक्कड़ों पर गाना गाकर चंदा इकट्ठा किया। पलक अपनी गायकी का सार्वजानिक प्रदर्शन कर चंदा इकट्ठा कर गरीब बच्चों की सहायता करती थीं।

उसके बाद पलक मुच्छल अपने भाई पलाश के साथ विदेशों में स्टेज शो करने लगीं, उन स्टेज शो से वह जो भी पैसा कमाती हैं, उसे गरीब बच्चों को दान करती हैं। उन्होने अपनी प्रदर्शनी का नाम दिल से दिल तक रखा है। पलक अपनी प्रदर्शनी मे औसतन 40 गाने गाती हैं जिनमे हिंदी फिल्मों के प्रसिद्ध गाने, भजन तथा गज़लें शामिल होती हैं। 2001 मे पलक ने गुजरात के भुकंप पीडितों की सहायता के लिए 10 लाख रुपये का चंदा इकट्ठा किया। पलक की बच्चों के प्रति सहानुभूति सिर्फ भारत तक सीमित नही है। जुलाई 2003 में पलक ने पाकिस्तान की एक बच्ची, जो ह्रदय रोग से पीडि़त थी और भारत मे इलाज के लिए आई थी, उसके लिए वित्तीय सहायता की पेशकश की थी।

दिसम्बर 2006 तक पलक मुच्छल ने अपने संगठन पलक मुच्छल हार्ट फाऊंडेशन के लिए कुल 1.2 करोड़ रुपये की राशि इकट्ठा की थी जिससे 234 बच्चों का ऑपरेशन किया गया। पैसों के कमी कि वजह से किसी बच्चे का ऑपरेशन न रुके यह सुनिश्चित करने के लिए इंदौर की भंडारी हॉस्पिटल ने पलक मुच्छल हार्ट फाउंडेशन को दस लाख रुपये तक के ओवरड्राफ्ट की अनुमति दी है। जून 2009 तक पलक ने कुल 1.71 करोड़ रुपये कि राशि इकट्ठा की थी जिससे 338 बच्चों की जान बचायी जा सकी। इस सामाजिक संगठन के पैसों से पलक या उनके परिवारवालों को कोई व्यक्तिगत लाभ नहीं होता। लाभार्थी बच्चों से पलक प्रतीक के रुप मे एक गुडि़या स्‍वीकार करती हैं।

All image source : instagram

पलक मुच्छल का जीवन परिचय PALAK MUCHHAL BIOGRAPHY IN HINDI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.